नवीन रोजगार छतरी योजना (Naveen Rojgar Chatri Yojana)

नवीन रोजगार छतरी योजना (Naveen Rojgar Chatri Yojana)

Share
  • 11
    Shares

नवीन रोजगार छतरी योजना (Naveen Rojgar Chatri Yojana) का शुभारंभ उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने राज्य के अनुसूचित जाति (Schedule Cast) के निर्धन व्यक्तियों के सर्वांगीण विकास के लिए किया है। आज हम लोग इस आर्टिकल के माध्यम से नवीन रोजगार छतरी योजना (Naveen Rojgar Chatri Yojana) से संबंधित समस्त जानकारियों जैसे कौन-कौन इस योजना का लाभ ले सकता है, इस योजना से संबंधित आवश्यक दस्तावेज आदि को आपसे साझा करेंगे इस योजना का लाभ उठाने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

नवीन रोजगार छतरी योजना का उद्देश्य (Objective of Naveen Rojgar Chatri Yojana)-

नवीन रोजगार छतरी योजना (Naveen Rojgar Chatri Yojana) के माध्यम से समाज के गरीब तबके को सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी जिससे वह खुद का रोजगार स्थापित कर सकें और अपने परिवार का भरण पोषण कर सकें। उदाहरण के तौर पर यदि कोई व्यक्ति कोरोना महामारी से पहले कहीं काम कर रहा था तो वह अपने और अपने परिवार का भरण पोषण कर लेता था। लेकिन कोरोना महामारी आने के बाद अब उस व्यक्ति को अपने काम से हाथ धोना पड़ा और  वह बेरोजगार हो गया ऐसी स्थिति में अगर उसे जल्द ही कहीं काम नहीं मिलेगा तो वह अपने परिवार की जरूरतों को भी पूरा नहीं कर पाएगा। ले

कोरोना महामारी के कारण लोगों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि लोगों से उनका रोजगार छिन गया है और जब उनसे रोजगार छिन जाएगा तो वह अपने परिवार का भरण पोषण किस प्रकार करेंगे। कोरोना महामारी के कारण बेरोजगारी बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है लोगों को कहीं काम नहीं मिल रहा है और उनको इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। इन्हीं सब समस्याओं को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने नवीन रोजगार छतरी योजना का शुभारंभ किया है।

नवीन रोजगार छतरी योजना

किन उत्तर प्रदेश सरकार ने यह बीड़ा उठाया है कि वह अपने निवासियों को इस मुश्किल समय में उनके साथ खड़ी है और उसको उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी जिससे वह अपना रोजगार शुरू कर सकें और इस मुश्किल घड़ी में हार ना माने बल्कि इस समस्या का डटकर सामना करें और समाज की प्रगति में सहभागी बने।

नवीन रोजगार छतरी योजना (Naveen trojgar Chatri Scheme) का शुभारंभ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अपने सरकारी आवास पर किया है। उन्होंने कहा कि आर्थिक समानता ही सामाजिक समानता का आधार बनती है। अगर समाज का एक तबका मजबूत है और दूसरा तबका कमजोर है तो ऐसा समाज कभी प्रगति नहीं कर सकता है। उन्होंने कहा की संतुलन ना केवल सामाजिक बल्कि आर्थिक स्तर पर भी होना चाहिए। इसी लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमारी सरकार सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के लिए प्रतिबद्ध है।

इस अवसर पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के 3484 लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में 17 करोड़ 42 लाख रुपए ऑनलाइन हस्तांतरित किए गए। मुख्यमंत्री जी ने गोरखपुर, बस्ती, मेरठ, आजमगढ़, रायबरेली और मुरादाबाद से आए हुए लाभार्थियों से बातचीत भी की लाभार्थियों ने बताया कि वे इस राशि का उपयोग जनरेटर सेट, परचून की दुकान, लॉन्ड्री व ड्राई क्लीनिंग ,टेलरिंग, बैंकिंग कॉरस्पॉडेंट, गौ-पालन,साइबर कैफे आदि के लिए करेंगे। इस मौके पर मुख्यमंत्री जी ने बताया कि प्रधानमंत्री जी ने प्रत्येक बैंक शाखा को लक्ष्य दिया है कि वह कम से कम 2 अनुसूचित जाति जनजाति और महिला लाभार्थियों को अनिवार्य रूप से ऋण उपलब्ध कराएं।

उत्तर प्रदेश में लगभग 18000 बैंक शाखाएं हैं, अगर हर एक बैंक दो लोगों को ऋण उपलब्ध कराएगी तो 36000 लोगों को इससे लाभ मिलेगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 से ना केवल आर्थिक जगत के साथ ही सामाजिक और अन्य व्यवस्थाएं भी प्रभावित हुई है। इन विषम परिस्थितियों में भी उत्तर प्रदेश सरकार अपने लोगों को आर्थिक मदद देकर उन्हें स्वावलंबी बनाने का प्रयास कर रही है। इस मौके पर मुख्यमंत्री आदित्यनाथ जी ने कहा कि जो सपना बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर व अन्य महापुरुषों ने सामाजिक समानता का देखा था, हमारी सरकार इसी दिशा में कार्य कर रही है।

नवीन रोजगार छतरी योजना

इस मौके पर समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री ने कहा कि विभाग की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ  लाभार्थियों को मिल रहा है। उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम लिमिटेड के अध्यक्ष डॉ लालजी प्रसाद निर्मल ने कहा कि कोविड-19 के दौरान भी लोगों के आर्थिक उन्नयन का काम उत्तर प्रदेश सरकार कर रही है। इस अवसर पर समाज कल्याण राज्यमंत्री डॉ. गिरिराज सिंह धर्मेश, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव समाज कल्याण मनोज सिंह, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री S.P गोयल भी उपस्थित थे।  वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के 177491  लोगों को वित्तीय सुविधा उपलब्ध कराई गई है।

नवीन रोजगार छतरी योजना से होने वाले लाभ (Benefits from the Naveen Rojgar Chatri yojana)-

  • इस योजना से राज्य के अनुसूचित जाति के गरीब और श्रमिकों को लाभ पहुंचाया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के 3484 लाभार्थियों को 17 करोड़ 42 लाख रुपए की धनराशि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा ऑनलाइन स्थानांतरण की गई है।
  • प्राप्त धनराशि का उपयोग लोग जनरेटर सेट, लॉन्ड्री व ड्राई क्लीनिंग, टेलरिंग, बैंकिंग कॉरस्पॉडेंट, टेंट हाउस, गौ-पालन,साइबर कैफे आदि के लिए कर सकते हैं ।

नवीन रोजगार छतरी योजना के लिए पात्रता (Eligibility for Naveen Rojgar Chatri yojana)-

  • लाभार्थी उत्तर प्रदेश का स्थाई (मूल) निवासी होना चाहिए।
  • लाभार्थी  दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के तहत पंजीकृत होना अनिवार्य है।
  • लाभार्थी का किसी भी बैंक में बैंक अकाउंट होना चाहिए।

नवीन रोजगार छतरी योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज (Documents required for Naveen Rojgar Chatri yojana)-

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • बैंक पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो

नवीन रोजगार छतरी योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें? (How to apply online for Naveen Rojgar Chatri yojana)-

  • सबसे पहले आप नवीन रोजगार छतरी योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा ।
  • अब आपके सामने होम पेज (Home page) खुलकर आ जाएगा।
  • अब आपको मांगी गई जानकारी को भरना होगा। इसके बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा।

***अभी इस योजना से ऑनलाइन आवेदन संबंधित कोई भी आधिकारिक जानकारी हमारे पास नहीं है जैसे ही इस योजना के ऑनलाइन आवेदन शुरू होंगे वैसे ही हम इस पोस्ट को अपडेट करेंगे।

  • 11
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *