ग्राम उजाला योजना (Gram Ujala Yojana)

ग्राम उजाला योजना (Gram Ujala Yojana)

Share
  • 4
    Shares

ग्राम उजाला योजना क्या है? (Gram Ujala Scheme)

ग्राम उजाला योजना (Gram Ujala Yojana) केंद्र सरकार की योजना है। इस योजना की शुरुआत केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने  की। इस योजना के माध्यम से गांवों में उच्च गुणवत्ता के एलईडी बल्ब (LED bulb) वितरित किए जाएंगे। प्रथम चरण में देश के पांच राज्यों में सस्ती दर पर एलईडी बल्ब उपलब्ध कराए जाएंगे।  इसके अंतर्गत 1.5 करोड़ एलईडी बल्ब  वाराणसी (उत्तर प्रदेश), आरा (बिहार), विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश), नागपुर(महाराष्ट्र), और पश्चिमी गुजरात के ग्रामीण इलाकों में वितरित किए जाएंगे। इस प्रोग्राम का फाइनेंस पूरी तरह से कार्बन क्रेडिट के माध्यम से किया जाएगा और इस तरह का यह भारत का पहला प्रोग्राम होगा।

इस योजना के तहत 3 साल की वारंटी के साथ 7 वाट और 12 वाट के एलईडी बल्ब ग्रामीण परिवारों को वितरित किए जाएंगे। अगर आप इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको अपने पुराने  बल्बों ( Incandescent bulb) को जमा करवाना होगा। इस योजना के अंतर्गत आप पांच पुराने बल्बों के बदले नए 5 एलईडी बल्ब खरीद सकते हैं। जिन घरों में बिजली का मीटर लगा हुआ है सिर्फ वही लोग इस योजना का लाभ उठा पाएंगे।इस योजना के पहले चरण में भोजपुर के उपभोक्ताओं को लगभग 25 लाख एलईडी बल्ब का वितरण किया जाएगा । दूसरे चरण में राज्य के करीब 1 करोड़ उपभोक्ता इससे लाभान्वित होंगे।

ग्राम उजाला योजना

ग्राम उजाला योजना के अंतर्गत नियुक्त किए गए कर्मी गांव में घर – घर जाकर पुराने पांच बल्ब लेकर 10-10 रुपए में नए एलईडी बल्ब देंगे। सरकार द्वारा नियुक्त कर्मी सिर्फ उन्हीं घरों में जाएंगे जहां पर बिजली के मीटर लगे हुए हैं, और उन्हीं लोगों को लाभ मिलेगा और वापस लिए गए पुराने बल्ब को ई- वेस्ट प्रक्रिया के अंतर्गत पुराने बल्ब को डिस्पोज किया जाएगा।

ग्राम उजाला योजना के अंतर्गत भारत संयुक्त राष्ट्र से कार्बन क्रेडिट को कैपिटलाइज करेगा। इससे उपभोक्ताओं पर अधिक भार भी नहीं पड़ेगा और उनको सस्ते दरों पर एलईडी बल्ब मिल सकेंगे। एक रिपोर्ट में बताया गया है कि 7 वाट के एलईडी बल्ब की कीमत करीब 70 रुपए है और 12 वाट के एलईडी बल्ब की कीमत 80 रुपए है ।  ऐैसे में जब उपभोक्ता 10 रुपए में बिजली के बल्ब खरीदेंगे तो  प्रति  बल्ब 60 और 70 रुपए की लागत की भरपाई केंद्र सरकार करेगी।

इस प्रोग्राम को कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (CESL) की तरफ से लॉन्च कर दिया गया है। इसके अंतर्गत पहले चरण में 1.5  करोड़ एलईडी बल्ब ग्रामीण इलाकों में वितरित किए जाएंगे। यह सरकारी कंपनी दुनिया में सबसे कम कीमत पर एलईडी बल्ब बेच रही है।  कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (CESL), EESL (Energy Efficiency Services Limited) भारत सरकार की एनर्जी कंपनी है जो दुनिया की सबसे बड़ी एनर्जी सर्विस कंपनी में से एक है। इसकी 100 फ़ीसदी हिस्सेदारी भारत सरकार के पास है और यह NTPC, पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन, REC लिमिटेड और पावर ग्रिड की ज्वाइंट वेंचर है।

ग्राम उजाला योजना का उद्देश्य (Objective Of Gram Ujala Scheme)-                                                  

ग्राम उजाला योजना के लागू होने से अब ग्रामीण इलाकों में भी लोग एलईडी बल्ब (LED bulb) को अपने घरों में इस्तेमाल कर सकेंगे। क्योंकि एलईडी बल्ब काफी महंगे होते हैं इसलिए ग्रामीण इलाके के लोग  अधिकतर फिलामेंट वाले बल्ब का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि यह  बल्ब बहुत सस्ते होते हैं। इस योजना के लागू होने से पर्यावरण को भी काफी फायदा होगा क्योंकि फिलामेंट बल्बों से कचरा ज्यादा उत्पन्न होता है और इनमें पारा भी पाया जाता है जो हमारे पर्यावरण को दूषित करता है। वही एलईडी बल्ब ऊर्जा बचाने वाले होते हैं और इन से पर्यावरण को नुकसान भी नहीं पहुंचता है।

इस योजना को लागू करने के पीछे सरकार का उद्देश्य यही है कि ग्रामीण  इलाकों के सभी घरों में एलईडी बल्ब को पहुंचाया जाए जिससे ऊर्जा की बचत भी होगी और हमारा पर्यावरण भी सुरक्षित होगा। और जब घरों में एलईडी बल्ब का इस्तेमाल होने लगेगा तो बिजली का बिल भी  कम आने लगेगा क्योंकि एलईडी बल्ब कम ऊर्जा की खपत करते हैं और उनको अच्छी रोशनी भी मिलेगी। एलईडी बल्ब का इस्तेमाल करने से कार्बन उत्सर्जन भी घटेगा और हमारा  वातावरण भी स्वच्छ रहेगा।

ग्राम उजाला योजना से होने वाले लाभ (Benefits from Gram Ujala Scheme)-                                        

इस योजना के लागू होने से लोग एलईडी बल्ब (LED bulb) का इस्तेमाल करने लगेंगे जिससे ऊर्जा की कम खपत होगी और हमारा पर्यावरण भी दूषित नहीं होगा। आज भी भारत देश में 300 मिलियन यानी 30 करोड़  से ज्यादा फिलामेंट वाले बल्ब का इस्तेमाल हो रहा है अगर हम इन फिलामेंट वाले बल्ब को एलईडी बल्ब से रिप्लेस  कर दे तो हम हर साल लगभग 40743 मिलियन किलोवाट बिजली की बचत कर लेंगे इसके साथ-साथ कार्बन डाइऑक्साइड में सालाना 35 मिलियन तक की कमी आ जाएगी। ग्राम उजाला योजना के लागू होते ही अब वह दिन दूर नहीं है जब देश के सभी घरों में एलईडी बल्ब का इस्तेमाल होने लगेगा और हमारी बिजली की खपत भी कम हो जाएगी और हम भी देश के पर्यावरण को सुरक्षित रखने में अपनी भूमिका निभा पाएंगे।

ग्राम उजाला योजना के अंतर्गत किनकिन लोगों को फायदा होगा (who will benefit under this scheme)-

इस योजना के प्रथम चरण में देश के ग्रामीण इलाकों में ही इस योजना का लाभ मिल सकेगा जो कि  निम्नलिखित हैं-

  • आरा( बिहार)
  • वाराणसी( उत्तर प्रदेश)
  • विजयवाड़ा( आंध्र प्रदेश)
  • नागपुर( महाराष्ट्र)
  • पश्चिमी गुजरात

अभी इन्हीं गांवों को इस योजना का लाभ मिल सकेगा।

ग्राम उजाला योजना का लाभ कैसे लें (How to avail the benefit of Gram Ujala scheme) –                   

इस योजना के लाभ से संबंधित अभी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है इसलिए आपको उपयुक्त जानकारी दी जा रही है, जैसे ही हमें इसकी जानकारी मिलेगी हम इस पोस्ट को अपडेट करेंगे।

  • 4
    Shares

Leave a Reply